आतंकवाद पर पाकिस्तान न करे ओछी बयानबाजी

साल के शुरुआत में अमेरिका ने कहा था कि पाक स्थित आतंकवादी समूह भारत सहित पूरे विश्व के लिए खतरा बने हुए हैं। लिहाजा पाकिस्तान को हर हाल में उन आतंकी संगठनों से लडऩा होगा। वह आतंकवाद पोषक देश है, समय समय पर इसके सबूत भी सामने आते रहे हैं।
-हरि

पूरी दुनिया जानती है कि भारत एक शांतिप्रिय देश है। वहीं समूचे विश्व में पाकिस्तान की छवि आतंकवादियों के पनाहगार के रूप में बनी हुई है। ऐसे में विदेश मामलों पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अजीज का भारतीय रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर के कांटा से कांटा निकालने संबंधी बयान के जवाब में यह कहना कि इससे पाकिस्तान में आतंकवाद फैलाने में भारत के शामिल होने की आशंकाओं की पुष्टि होती है, उनकी मानसिक दिवालियापन का परिचायक है।
इस तरह वहां की सरकार आतंकवाद की गंभीरता को हल्का ही कर रही है और पाकिस्तान की जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है। वह अपनी नाकामियों को भी छिपाने की कोशिश कर रही है। इससे साफ जाहिर होता है कि आतंकवाद को लेकर पाक सरकार दोहरी नीति अपना रही है। लगता है कि पेशावर की वीभत्स घटना से भी वहां की हुकूमत कोई सबक नहीं ले पा रही है।
सरताज अजीज की टिप्पणी का जवाब देते हुए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने ठीक ही कहा है कि आज सारी दुनिया जानती है कि आतंकवाद को बढ़ावा कौन दे रहा है, जबकि भारत आतंकवाद को रोकने के लिए हरसंभव कदम उठा रहा है। पाकिस्तान को भी चाहिए कि वह दहशतगर्दी से निपटने में भारत का पूरा सहयोग दे, क्योंकि आज वह खुद भी इस संकट का शिकार है। भारत पर इस तरह के ओछे आरोप लगाने से साफ होता है कि पाक अब भी आतंकवाद को अच्छे व बुरे की नजर से देख रहा है।
साल के शुरुआत में अमेरिका ने कहा था कि पाक स्थित आतंकवादी समूह भारत सहित पूरे विश्व के लिए खतरा बने हुए हैं। लिहाजा पाकिस्तान को हर हाल में उन आतंकी संगठनों से लडऩा होगा। वह आतंकवाद का पोषक देश है, समय समय पर इसके सबूत भी सामने आते रहे हैं। बीते साल अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने अमेरिकी कांग्रेस को सौंपी अपनी रिपोर्ट में कहा था कि पाकिस्तानी सेना भारत के खिलाफ आतंकवाद को बढ़ावा दे रही है।
इसी तरह की बात अफगानिस्तान की खुफिया विभाग के हवाले से भी कहा गया था। आज वहां साठ से ज्यादा प्रतिबंधित आतंकी संगठन हैं। पाकिस्तान के कई क्षेत्रों पर उनका व्यापक प्रभाव है। लश्कर ए तैयबा, जमात उद दावा, हक्कानी नेटवर्क, तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान आदि दुनिया के खंूखार आतंकी संगठनों की पहचान पाकिस्तान से है। अलकायदा के सभी बड़े आतंकी आज वहीं छिपे हुए हैं। ओसामा बिन लादेन सालों से पाकिस्तान में ही पनाह लिए हुआ था।
हाफीज सईद को पाक सरकार तमाम सहूलियतें दे रही है, जबकि अमेरिका उसके सिर पर इनाम रखा है। भारत में होने वाले आतंकी हमलों के तार पाकिस्तान से ही जुड़े होते हैं। वहां की सेना जब न तब घुसपैठ कराने के लिए सीमा पर गोलीबारी करती है। आईएसआईएस के भी पाकिस्तान में दस्तक देने की खबर है। उसकी ओर से तो यहां तक कहा गया है कि वह पाकिस्तान की मदद से परमाणु बम जल्द ही प्राप्त कर लेगा।
जाहिर है, पाकिस्तान के इस तरह आरोप लगाने से आतंकियों के हौसले बढ़ेंगे। यदि वह वास्तव में आतंकवाद को समाप्त करना चाहता है तो उसे बिना भेदभाव किए सभी आतंकवादियों को नेस्तनाबूद करना होगा। यदि वहां की सरकार कार्रवाई नहीं करेगी तो ये आतंकी अंतत: उसे ही नुकसान पहुंचाएंगे।

Pin It