आज भी खुला रहा हाजी मिष्ठान भंडार

  • लड्डू खाने से लोगों के बीमार होने का मामला
  • अभी तक प्रशासन की तरफ से नहीं की गई कोई कार्रवाई

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जिस हाजी मिष्ठान भंडार के लड्डू खाकर 60 से अधिक लोग बीमार हुए हैं। उसकी दुकान आम दिनों की तरह खुल रही है। दुकान के खिलाफ प्रशासन की तरफ से कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। इससे मिलावटखोरों के खिलाफ प्रशासनिक मंशा भी स्पष्ट हो रही है।
हुसैनाबाद के रामगंज मूरत मोहल्ले में दावत के दौरान परोसे गये लड्डू खाने से 60 से अधिक लोग बीमार हो गये थे। इसमें अधिकांश लोगों को उल्टी, दस्त और डायरिया की शिकायत थी। सबको इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया था। बीमारों में अभी भी बहुत से लोगों की हालत में पूरी तरह सुधार नहीं हुआ है। मोहल्ले के लोगों में लड्डू के नाम से ही डर बैठ गया है। हर व्यक्ति में विषाक्त लड्डू बेचने वाले दुकानदार के खिलाफ गुस्सा भरा हुआ है। इस बात से प्रशासनिक अधिकारी भी वाकिफ हैं। इसके बावजूद दुकानदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। हर बार की तरह प्रशासनिक अधिकारी जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गये नमूनों की रिपोर्ट आने के बाद ही अगली कार्रवाई करने का रटा रटाया बयान दे रहे हैं। इसी वजह से खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की छापेमारी और प्रयोगशाला रिपोर्ट में नमूने फेल होना भी मिलावटखोरों के हौसलों को पस्त नहीं कर पा रहा है।

गौरतलब हो कि लखनऊ मिलावटखोरी का गढ़ बनता जा रहा है। यहां दुकानों और प्रतिष्ठानों में बिकने वाले अधिकांश खाद्य पदार्थों में मिलावट के मामले सामने आ चुके हैं। आंकड़ों पर गौर करें तो वित्तीय वर्ष 2014-15 में 279 नमूनों की रिपोर्ट आई थी, जिसमें 119 खाद्य पदार्थों में मिलावट की पुष्टि हुई थी। इसी प्रकार वर्ष 2013-14 में 193 नमूनों को जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें 74 नमूने फेल पाये गये थे। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि राजधानी में बिकने वाले खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता और विश्वसनीयता दोनों संदेह के घेरे में है। यहां दूध में यूरिया और पानी की मिलावट का धंधा जोरों पर चल रहा है। देशी घी में डालडा और पिसा हुआ आलू मिलाकर बेचा जा रहा है। जिस पानी के बताशे को हम चटखारे लगाकर खाते हैं, उसके पानी में खटास का स्वाद लाने के लिए अजीनोमोटो का इस्तेमाल किया जाता है, जो हमारे लीवर और किडनी को काफी नुकसान पहुंचाता है। इसी प्रकार कई अन्य खाद्य पदार्थों में भी मिलावट का धंधा धड़ल्ले से चल रहा है। जिसकी जानकारी पुलिस और प्रशासन सबको है लेकिन रोक नहीं लग पा रही है।

Pin It