आखिर कब बाहर किया जायेगा गुंडे मंत्रियों को…

आजकल यूपी पुलिस बलात्कार के आरोप लगाने में माहिर हो गई है। कुछ दिन पहले ही इसी तरह का कमाल खुद पुलिस के आईजी अमिताभ ठाकुर भी झेल चुके हैं। उन्होंने सबसे काबिल मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ शिकायत करने की जुर्रत की।

sanjay sharma editor5यूपी के बेलगाम और अहंकारी मंत्रियों ने तय कर लिया है कि वो पार्टी की लुटिया डुबो कर ही रहेंगे। ताजा मामला शाहजहाँपुर का है। वहां के स्थानीय मंत्री के खिलाफ एक पत्रकार लगातार सोशल मीडिया पर लिख रहा था। मंत्री जी का पारा हाई हो गया। बस उन्होंने पुलिस को फरमान सुनाया कि इस पत्रकार को सबक सिखाना है। पुलिस भगवान की भले ही ना सुने पर मंत्री की जरूर सुनती है, अगर मंत्री गुंडा हो तो और ज्यादा सुनती है। इस मामले में भी पुलिस ने यही किया। पुलिस वाले इस पत्रकार को उसकी औकात बताने में जुट गए।
इसी बीच एक महिला ने मंत्रीजी पर बलात्कार का आरोप लगा दिया। मंत्रीजी को लगा कि इस आरोप के पीछे भी इसी पत्रकार का हाथ है। बस फिर क्या था पुलिस इस पत्रकार के पीछे हाथ धो कर पड़ गई। उसे उसकी हैसियत बताने की तैयारी में जुट गई। आनन-फानन में इन पत्रकार महोदय पर भी बलात्कार का आरोप लगा दिया गया। आजकल यूपी पुलिस बलात्कार के आरोप लगाने में माहिर हो गई है। कुछ दिन पहले ही इसी तरह का कमाल खुद पुलिस के आईजी अमिताभ ठाकुर भी झेल चुके हैं। उन्होंने सबसे काबिल मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ शिकायत करने की जुर्रत की। नतीजा एक महिला को उनके खिलाफ भी तैयार कर लिया गया। महिला ने उनके खिलाफ भी बलात्कार की शिकायत कर दी। जब यूपी के आईजी के खिलाफ शिकायत की जा सकती है तो पत्रकार की क्या औकात।
पुलिस इस बेचारे पत्रकार को यह समझाने में जुट गई कि मंत्री के खिलाफ शिकायत करने का नतीजा क्या होता है। जब यह बेचारा पत्रकार पुलिस का उत्पीडऩ नहीं झेल पाया तो उसने खुद को आग लगा ली। गंभीर हालत में बेचारे पत्रकार को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। यह तस्वीर है जो बताती है कि मंत्री किस हद तक गुंडागर्दी करते हैं और पत्रकारों को किस हद तक झेलना पड़ता है।
समझ नहीं आता कि मुख्यमंत्री अपने इस तरह के गुंडे मंत्रियों को बाहर का रास्ता क्यों नहीं दिखाते। आखिर जनता में छवि तो मुख्यमंत्री की ही खराब होगी कि वो इस तरह के गुंडों को बढ़ावा क्यों दे रहे हैं। इस प्रदेश के लोगों ने अखिलेश यादव में एक नायक की छवि देखी थी तभी उनको इतना अपार समर्थन दिया था। मगर अब उनके गुंडे मंत्री ही इस तरह का आतंक मचाएंगे तो नुकसान सिर्फ और सिर्फ मुख्यमंत्री का ही होगा। अच्छा होगा कि इन गुंडे मंत्रियों को अब बाहर का रास्ता दिखा ही दिया जाये ..

Pin It