आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर यात्रीगण ध्यान दें अब मोबाइल स्क्रीन पर लाइव देखिए क्या पक रहा है रेलवे के किचन में

आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर यात्रीगण ध्यान दें अब मोबाइल स्क्रीन पर लाइव देखिए क्या पक रहा है रेलवे के किचन में

खाना बनने से लेकर पैक होने तक की प्रक्रिया को देख सकेंगे यात्री
बिना सिर ढंके पहुंचे तो स्क्रीन शॉट पहुंचेगा उच्चाधिकारियों के पास

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आईआरसीटीसी) दिल्ली के बाद अब कानपुर में भी अत्याधुनिक बेस किचन तैयार कर रहा है। इसमें खाना बनने से लेकर पैक होने तक की प्रक्रिया यात्री मोबाइल फोन पर देख सकेंगे। इसके लिए बस उन्हें आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाना होगा। बेस किचन में मशीनों की मदद से एक दिन में करीब 10 हजार लंच पैकेट तैयार किए जाएंगे और यात्रियों को गुणवत्तायुक्त भोजन मिलेगा। खाने के परीक्षण के लिए टेटिंग लैब भी प्रस्तावित है। सेंट्रल स्टेशन के कैंट साइट में तैयार हो रहे किचन में खाना रिवर्स ऑस्मोसिस (आरओ) वाटर से पकेगा। इसके लिए आरओ प्लांट लगाया जा रहा है। किचन में कार्यालय के साथ ही पराठा, स्टोर, पैकिंग और धुलाई के पांच सेक्शन होंगे। बेस किचन में आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) कैमरे लगाए जाएंगे। ये कैमरे अपलोड किए गए सॉफ्टवेयर सिस्टम पर काम करते हैं। अगर कोई कर्मचारी या व्यक्ति बिना सिर ढंके किचन में पहुंचा तो उसका स्क्रीन शॉट दिल्ली में बैठे अधिकारियों तक स्वत: पहुंच जाएगा।

ऐसे देख सकते हैं खाना बनते हुए

किचन में खाना बनते और पैकिंग देखने के लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर किचन का ऑप्शन खोलना होगा। पैकिंग सेक्शन की व्यवस्था पारदर्शी होगी ताकि प्लेटफार्म पर लगी एलईडी स्क्रीन पर भी यात्री देख सकें। आईआरसीटीसी प्रबंधक अमित सिन्हा ने बताया कि मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरू, पटना, हावड़ा और दिल्ली में ऐसे किचन है। इसके बनने से खाने की गुणवत्ता बढऩे के साथ व्यवस्था पारदर्शी होगी।

बचे खाने से बनेगी खाद

बचे खाने का प्रयोग खाद बनाने में होगा। इसके लिए वर्मी कंपोस्ट प्लांट भी कैंट साइड में लगेगा।

इन मशीनों में पकेगा भोजन

कॉम्बी ओवन : इसमें 40 ट्रे किट लगी होती हैं। इसमें 20 किग्रा चावल 12 मिनट में पकेंगे। 10-12 किग्रा दाल भी इतने समय में पक जाएगी। इसमें मिक्स वेज, कचौड़ी, सब्जी, फ्राइड आइटम बन सकेंगे।
ब्रेट पैन : 150 लीटर की क्षमता होती है। इसमें 50 किग्रा पनीर 40 किग्रा ग्रेवी के साथ 15 मिनट में तैयार हो जाएगा।
ब्वायलिंग केटल : इसकी क्षमता भी 150 लीटर है। 15-20 मिनट में सूप और दाल तैयार की जा सकती है।
रोटी मशीन : आटा गूंथने के साथ ही यह मशीन एक घंटे में एक हजार फुल्का रोटी तैयारी करेगी।
वॉक इन कूलर : दो बड़े कमरेनुमा स्थान पर इसे लगाया जा रहा है। इसमें अंदर जाकर खाना रखने की व्यवस्था होगी। इससे आठ से 10 घंटे खाना फ्रेश रहेगा।

बेस किचन पर एक नजर

द्य 4-5 कैमरे लगाए जाएंगे पूरे किचन में।
द्य 4-5 माह में तैयार हो जाएगा बेस किचन।
द्य 1.50 करोड़ रुपये से तैयार होगा।
द्य 50 लाख रुपये से किचन निर्माण होगा।
द्य 01 करोड़ रुपये से मशीनें लगाई जाएंगी।
द्य 50-55 किचन में कर्मचारी काम करेंगे।
द्य 10 हजार लंच पैकेट रोजाना तैयार होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *