अस्पताल में संसाधनों की कमी बता प्रसूता को किया क्वीनमेरी रेफर

परिजनों का आरोप इलाज में देरी के चलते हुई नवजात की मौत

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद अस्पतालों में मरीजों का इलाज करने में लापरवाही की घटनाएं कम नहीं हो रही हैं। क्वीनमेरी अस्पताल में सोमवार को एक नवजात की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि ऐशबाग महिला चिकित्सालय में संसाधनों का अभाव बताकर चिकित्सकों ने मरीज की हालत गंभीर होने के बावजूद क्वीनमेरी के लिए रेफर कर दिया। वहीं क्वीनमेरी में मरीज को भर्ती करने के बाद चिकित्सकों ने मरीज की उचित देखभाल करने के बजाय बुखार का इंजेक् शन दे दिया। इसके बाद चिकित्सकों ने लेबर पेन होने पर प्रसूता को तो बचा लिया लेकिन बच्चे की मौत हो गई।
ऐशबाग स्थित बाल महिला चिकित्सालय मेें संसाधनों की कमी का हवाला देकर एक डॉक्टर ने प्रसूता को क्वीन मेरी अस्पताल भेज दिया गया। जहां प्रसव के बाद नवजात की मौत हो गयी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को सुबह चारबाग निवासी दीप्ति को प्रसव पीड़ा होने के कारण परिजन ऐशबाग बाल महिला चिकित्सालय ले गये थे। वहां मौजूद डॉक्टर ने दीप्ति को देखने के बाद ऑपरेशन की बात कही। जिसे सुनकर परिजन तुरंत ऑपरेशन के लिए राजी हो गये। लेकिन बाद में डॉक्टर ने खुद ही संसाधनों के आभाव की बात कह कर महिला को क्वीन मेरी अस्पताल भेज दिया। वहां सुबह आठ बजे प्रसव के बाद जन्मे नवजात की मौत हो गयी। वहीं परिजनों का कहना है कि सुबह तक महिला की हालत ठीक थी। लेकिन अचानक उसे बुखार आ गया। जिसके बाद क्वीनमेरी के डॉक्टरों ने उसे इंजेक्शन लगा दिया। जिसकी वजह से मरीज की हालत बिगड़ती चली गयी। परिजनों का आरोप है कि यदि समय पर इलाज मिल जाता तो नवजात की जिंदगी बच सकती थी।

Pin It