अस्पतालों में मरीजों की बढ़ी भारी भीड़

 

लखनऊ। लगातार दो दिन छुट्टïी होने के कारण सोमवार को अस्पताल में मरीजों की भारी भीड़ दिखी। यह सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा। सुबह 8 बजे से ही अस्पतालों के पर्चा काउंटरों तथा ओपीडी में मरीजों की लंबी लाइन लगी रही। राजधानी के सिविल, बलरामपुर, लोहिया सहित केजीएमयू की ओपीडी में हजारों मरीजों को देखा गया। जहां सोमवार को सिविल अस्पताल में नये पुराने मिलाकर लगभग 10 हजार मरीजों को देखा गया, जिसमें से करीब 3168 नये मरीज और 6 हजार पुराने मरीजों को देखा गया, वहीं मंगलवार को भी हजारों की संख्या में मरीज पहुंचे। सिविल अस्पताल में रिकार्ड 1500 लोगों की पैथालॉजी जांच हुई वहीं 240 के ऊपर एक्सरे व 170 मरीजों का अल्ट्रासाउंड किया गया। इसके आलावा अस्पताल में 30 सिटी स्कैन भी किये गये।
राजधानी में इस समय संक्रामक मरीजों की संख्या बढ़ गई है। बलरामपुर अस्पताल में करीब नये पुराने मिलाकर करीब 6 हजार मरीज देखे गये। साथ ही 250 के करीब एक्सरे व 180 मरीजों के अल्ट्रासाउंड हुये। बलरामपुर अस्पताल में करीब 25 हजार मरीजों को देखा गया। वहीं लोहिया अस्पताल में नये पुराने मिलाकर 9 हजार मरीजों को देखा गया और करीब 400 मरीजों का अल्ट्रासाउंड व एक्सरे हुआ। वही केजीएमयू की ओपीडी में नये पुराने मिलाकर करीब 5 हजार मरीजों को देखा गया। करीब 30 हजार पुराने मरीजों को इलाज हुआ। बलरामपुर अस्पताल के डॉ. राजीव लोचन ने बताया कि छुट्टïी का दिन पडऩे की वजह से अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढऩा तय है।

डॉक्टरों ने 4 बजे तक देखे मरीज
सरकारी अस्पतालों में भीड़ के कारण डॉक्टरों ने 4 बजे तक मरीजों को देखा। दरअसल ओपीडी तो 2 बजे तक होती है लेकिन नियम यह होता है कि डॉक्टरों के पास 1 बजे तक जितने पर्चे आ जाते हैं उन्हें तो देखना ही पड़ता है। इसलिए डाक्टरों ने मरीजों को देखा।

Pin It