अस्तित्व की तलाश में जुटी कांग्रेस

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। कांग्रेस अपने अस्तित्व की लड़ाई में जुट गयी है। कांग्रेस उत्तरप्रदेश में पिछले विधानसभा और लोकसभा में अपनी साख बचाने में कामयाब नहीं हो पायी थी। जिसको लेकर कांगे्रस में घमासान मचा हुआ था अब राहुल गांधी एक अलग मूड में दिख रहे हैं और एक नयी इस्टाइल में अब उनकी यही कोशिश रहेगी की उत्तरप्रदेश में अस्तित्व को कैसे बचाया जाये। वहीं देखा जाये तो पिछले दिनों में महाराष्ट्र और हरियाणा जैसे राज्यों में एक जोरदार तरीके से धमाल मचा चुके है। कांग्रेस पार्टी अब राहुल गांधी के सहारे एक नया रोड मैप बनाने की तैयारी में है।
जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी यूपी में 12 मई को सभी जिलों में एक बड़ा आंदोलन करेगी, और केंद्र सरकार को वो तमाम मुद्दो पे घेरेगी। केंद्र सरकार की भूमि अधिकरण बिल का विरोध करते हुए किसानों की फसल बर्बादी पे आत्महत्या करना और मुवावजे के नाम पे जो 100 रुपए के चेक दिए गए थे इन मुद्दों को लेकर ही कांग्रेस पार्टी 12 मई को प्रदेश भर में प्रदर्शन करेगी।
उसके बाद ताकि जब राहुल गांधी उत्तरप्रदेश के दौरे पर आएं तो एक बड़ा जनाधार राहुल गांधी के साथ जुड़ा हुआ दिखाई दे। कांग्रेस पार्टी की कोशिश यही है की 2017 के विधानसभा चुनाव में एक नयी रणनीति और एक नए रोड मैप के साथ वापसी करे। यूपी में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को सिर्फ दो ही सीटें मिली थी और विधानसभा में 33 सीटें। ये सीटें शायद राष्ट्रीय पार्टी के लिए कम हैं और इन सीटों से पार्टी का अस्तित्व उज्जवल दिखाई नहीं देता है। इसी स्थिति को बदलने के लिए कांग्रेस पार्टी अब एक भव्य आंदोलन करके एक नयी रणनीति के साथ अपने कदम को जमाने की कोशिश में है और राहुल गांधी को एक नए चेहरे और एक नए कलेवर के साथ यूपी में लाएगी।
अब देखना यही है की कांग्रेस 12 मई के बाद राहुल के दौरे में किस हर्षो उल्लास के साथ भीड़ इक_ा करती है। वहीं सभी पार्टियां 2017 के चुनाव में जुटी हैं। कांग्रेस पार्टी को पता है की बगैर किसानों को साथ लिये यूपी की सत्ता पर काबिज नहीं हो सकते हैं। इसलिये कांग्रेस ने किसानों के मुद्दो को उठाना शुरू कर दिया है और राहुल खुद को किसानों का हितैषी साबित करने में लगे हुए हैं।

Pin It