असलहा वेरीफिकेशन न कराने वालों के लाइसेंस होंगे निरस्त

जिले में करीब 2017 लोगों पर मंडरा रहा शस्त्र लाइसेंस निरस्त होने का खतरा
शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जिले में यूनिक आईडी वेरीफिकेशन नहीं करवाने वाले करीब 2017 शस्त्र लाइेंसस धारकों के लाइसेंस निरस्त हो जायेंगे। इन लोगों ने 31 मार्च तक की समय सीमा समाप्त होने के बाद भी अपना वेरीफिकेशन नहीं करवाया है। इसलिए प्रशासन ने वेरीफिकेशन नहीं करवाने वालों की सूची तैयार कर ली है। बहुत जल्द इनके लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जायेगी। हालांकि आज कलेक्ट्रेट में भारी संख्या में वेरीफिकेशन कराने के लिए लोग पहुंचे।
राजधानी में शस्त्र लाइसेंस धारकों की संख्या 56,000 है। इसमें शासन की तरफ से मिले निर्देशों के अनुसार 31 मार्च तक सभी शस्त्र लाइसेंस धारकों को अपना यूआईडी वेरीफिकेशन करवाने का समय दिया गया था लेकिन तय समय सीमा के अंदर मात्र 53, 983 लोगों ने ही वेरीफिकेशन करवाया। आम्र्स कोड की वेवसाइट कल रात 12 बजे के बाद से आटोमेटिकली बंद हो गई। इसलिए यूआईडी वेरीफिकेशन भी बंद हो गया। लेकिन आज भी लोग उम्मीद में कलेक्ट्रेट वेरीफिकेशन कराने पहुंचेे। इस संबंध में प्रशासनिक अधिकारी शासन की तरफ से निर्देश का इंतजार कर रहे हैं। फिलहाल वेरीफिकेशन नहीं करवाने वालों की सूची तैयार की जा रही है। इसमें बहुत से ऐसे लोग भी शामिल हैं, जिनके जिन्दा न होने या लाइसेंस सरेंडर करने की आशंका जताई जा रही है। इसलिए शासन से निर्देश मिलते ही लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जायेगी।
गौरतलब हो कि सत्यापन के दौरान शस्त्र लाइसेंस धारक को असलहे से संबंधित विवरण और यूनिक आईडेंटिफिकेशन (यूआईडी)नंबर की छाया प्रति कार्यालय में जमा करवाना था। यह कार्य कलेक्ट्रेट स्थित कक्ष संख्या 38 में करीब तीन महीने से किया जा रहा था। इसमें शस्त्र लाइसेंस धारकों की सुविधा के लिए अलग से वेरीफिकेशन काउंटर भी बढ़ाये गये थे। इस बारे में खूब प्रचार प्रसार भी किया गया। इसके बावजूद हजारों लोगों ने वेरीफिकेशन करवाना जरूरी नहीं समझा। ऐसे लोगों के लाइसेंस निरस्त होने का खतरा मंडराने लगा है।

Pin It