अरुणिमा की झोली में एक और उपलब्धि

लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड अवार्ड मिलने पर जताई खुशी
समाजसेवा के क्षेत्र में कुछ बेहतर करने का जज्बा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा को कल दिल्ली में लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार पाकर वह बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा, यह अवार्ड मझे और मजबूती देगा। अरुणिमा ने अपनी खुशी साझा करते हुए कहा, वह समाजसेवा के क्षेत्र में कुछ खास करना चाहती हैं। सबसे पहले उनका जोर गरीबों के स्वास्थ्य की बेहतरी पर है। इसके लिए उनकी संस्था अरुणिमा फाउंडेशन कैंप लगाकर जानलेवा बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण कर रही है। जल्द ही अन्य क्षेत्रों में भी यह अभियान चलेगा।
अरूणिमा पूरे देश के लिए प्रेरणास्रोत है। वह अंबेडकरनगर जिले के शहजादपुर कस्बा स्थित पंडाटोला की रहने वाली हैं। वर्ष 2011 में ट्रेन हादसे का शिकार होने के कारण एक पैर गंवाना पड़ा। लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपने बुलंद हौसले से वर्ष 2013 में एवरेस्ट फतह करने वाली पहली निशक्त महिला बनीं। वर्ष 2014 में साउथ अफ्रीका की एंकागुआ चोटी को फतह किया। वर्ष 2015 में राष्टï्रपति ने उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया। अरूणिमा ने वर्ष 2015 में उत्तर प्रदेश के उन्नाव में निशक्तों के लिए खेल अकादमी की स्थापना। अभी हाल ही में उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार के यश भारती पुरस्कार से सम्मान मिला।

Pin It