अमिताभ ठाकुर के घर विजिलेंस का छापा

M1आय से अधिक सम्पत्ति के मामले को लेकर सुबह 9 बजे के करीब पड़ा छापा
अमिताभ ठाकुर का आरोप, सरकार के इशारे पर हो रही है कार्रवाई
अमिताभ ने कहा कि मीडिया की मौजूदगी में ली जाए तलाशी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। निलंबित आईपीएस अमिताभ ठाकुर के घर पर आज विजिलेंस की टीम ने छापा मारा। यह छापा आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में डाला गया। अमिताभ के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में विभागीय जांच भी चल रही है। इसके अलावा अमिताभ ठाकुर ने इस जांच को हाईकोर्ट में चैलेंज भी किया है। श्री ठाकुर ने विजिलेंस टीम से मांग की कि छापे की कार्रवाई मीडिया की मौजूदगी में हो, जिस पर विजिलेंस टीम ने उनकी मांग मानने से इंकार कर दिया।
आज सुबह नौ बजे के करीब विजिलेंस की टीम गोमती नगर के विराम खंड स्थित अमिताभ ठाकुर के घर पर पहुंची। विजिलेंस टीम अंदर जाने को हुई तो श्री ठाकुर ने विजलेंस के अधिकारियों को अंदर जाने से रोक दिया। उन्होंने कहा कि विजिलेंस टीम के साथ मीडिया भी अंदर जाएगी। इस पर विजिलेंस की टीम के हाथ-पांव फूलने लगे। वे मीडिया को साथ ले जाने को तैयार नहीं हुए। बाहर घंटो विजिलेंस की टीम और क्षेत्रीय थाने की पुलिस खड़ी रही। अमिताभ ठाकुर ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि विजिलेंस टीम का स्वागत है। घर खुला हुआ है। जितनी तलाशी लेनी है ले लें, पर मैं टीम को बिना मीडिया के अंदर नहीं जाने दूंगा। मुझे डर है कि विजिलेंस टीम तलाशी के दौरान घर में कोई भी आपत्तिजनक सामान रखकर मुझे फंसा सकती है। मेरा सरकार से भरोसा उठ गया है। इसकी वजह मुलायम सिंह के खिलाफ कोई भी कार्रवाई होने के 24 घंटे के अंदर मेरे खिलाफ कोई न कोई कार्रवाई करना है। सरकार जानबूझकर मुझे परेशान कर रही है।
काफी जद्दोजहद के बाद विजिलेंस की टीम बिना मीडियाकर्मियों के घर के अंदर गई। इसलिए श्री ठाकुर ने खुद ही तलाशी की कार्रवाई की रिकार्डिंग अपने मोबाइल कैमरे से करनी शुरू कर दी। खबर लिखे जाने तक श्री ठाकुर के घर की तलाशी चल रही थी। आस-पास के घरों में रहने वाले लोग भी भारी संख्या में पुलिस देखकर सडक़ पर आ गए थे।

तकनीक के इस्तेमाल से भ्रष्टïाचार में आएगी कमी-सीएम

मुख्यमंत्री ने किया ‘एम सेहत’ परियोजना का शुभारंभ
50 आशा बहुओं व एएनएम को बांटे गए स्मार्ट फोन

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्र सरकार शहरों को स्मार्ट बनाना चाहती है लेकिन हमारी सरकार अपनी योजनाओं को स्मार्ट तरीके से चलाने में विश्वास रखती है। इसी के तहत हमने ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधा को स्मार्ट बनाने के लिये एएनएम और आशा बहुओं को स्मार्ट फोन देने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ‘एम सेहत’ परियोजना एक अच्छी पहल है अगर सभी क्षेत्रों में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाये तो भ्रष्टïाचार के मामलों में भी काफी कमी आ जायेगी।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज अपने सरकारी आवास पर आयोजित स्वास्थ्य विभाग की ‘एम सेहत परियोजना’ के शुभारम्भ के अवसर पर लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा इस परियोजना का उद्देश्य मातृ एवं शिशु मृत्यु दर तथा सकल प्रजनन दर में कमी लाना है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने 50 एएनएम और आशा बहुओं को स्मार्ट फोन बांटे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आशा बहुओं और एएनएम को स्मार्ट फोन से लैस करने के पीछे उन्हें आधुनिकता के आधार पर सशक्त बनाना है। दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी सेवाएं देने वाली आशा बहुएं एवं एएनएम स्मार्ट फोन के जरीये सीधे अपने उच्चाधिकारियों व विभाग से जुड़ी सेवाओं की जानकारी आसानी से हासिल कर सकेंगी। जिसका सीधा फायदा आम नागरिकों को ही होगा। कार्यक्रम के दौरान चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवास कल्याण मंत्री अहमद हसन व राज्य मंत्री शंखलाल मांझी, नितिन अग्रवाल
सहित प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अरविन्द कुमार भी उपस्थित थे। स्मार्ट फोन पाकर आशा बहुंए भी काफी प्रफुल्लित थी।

Pin It