अब हेल्प लाइन पर मिलेगी मनरेगा के संबंध में जानकारी

  • राज्य स्तर पर गुणवत्ता नियंत्रण के लिए गुणवत्ता मॉनीटर तैनात

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ । उत्तर प्रदेश के ग्राम्य विकास विभाग की तरफ से ग्रामीण जनता को स्वावलंबी बनाने और स्तरीय जीवन देने के लिए अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। वर्तमान वित्तीय वर्ष 2015-16 में सरकार ने कई महत्वपूर्ण निर्णय लेने का फैसला किया है। इसमें मनरेगा की जानकारी प्राप्त करने के लिए राज्य स्तर पर मनरेगा हेल्प लाइन नम्बर 18001805999 जारी किया गया है। इस हेल्प लाइन नंबर पर लोग मनरेगा से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। जरूरत पडऩे पर इस न बर पर अपनी शिकायत व कार्य की मांग और जॉब कार्ड की मांग भी दर्ज करा सकते हैं।
राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी-जनपदों में ईएफ एमएस प्रणाली लागू कर दी गई है, जिसके अन्तर्गत मनरेगा योजना के अन्तर्गत समस्त भुगतान इलेक्ट्रॉनिक फ ण्ड ट्रान्सफ र आर्डर के माध्यम से किये जा रहे हैं। ग्राम्य विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस योजना के अन्तर्गत स्वतंत्र सोशल आडिट निदेशालय की स्थापना की गई है। मनरेगा में महिलाओं की अधिकाधिक सहभागिता के लिए सरकार की तरफ से अनेक प्रयास किये जा रहे हैं। मनरेगा योजनान्तर्गत विभिन्न स्तरों से प्राप्त शिकायतों का तेजी से निस्तारण किया जा रहा है। इस योजना के लिए राज्य स्तर पर गुणवत्ता नियंत्रण के लिए 8 राज्य गुणवत्ता मानीटर नियुक्त किये गये हैं। वर्तमान में 12 गुणवत्ता मानीटर तैनात हैं जो प्रदेश के सभी जनपदों का कार्य देख रहे हैं। लोकपालों की तैनाती करके उन्हें अलग-अलग जनपद आवंटित कर दिये गये हैं।
विभागीय जानकारी के अनुसार वर्ष 2016-17 के बजट निर्धारण के लिए प्रदेश के 403 विकास खण्डों में आईपीपीई 2 प्रक्रिया के अन्तर्गत कार्रवाई की गई है। इसके अन्तर्गत ग्राम पंचायतों में डोर टू डोर सर्वे, सोशल मैपिंग, रिसोर्स मैपिंग इत्यादि के माध्यम से अधिक वास्तविक श्रम बजट बनाने की प्रक्रिया अपनाई गई है। 403 विकास खण्डों का चयन ग्रामीण विकास मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुरूप योजना आयोग, भारत सरकार द्वारा निर्मित बैकवर्ड इण्डेक्स के आधार पर किया गया है।

Pin It