अब युवराज भी पहुंचे राम लला के दरबार में

  • राहुल गांधी ने अयोध्या पहुंचकर हनुमान गढ़ी में किया दर्शन
  • गांधी परिवार का कोई व्यक्ति 24 साल बाद पहुंचा अयोध्या

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
1लखनऊ। राहुल गांधी ने बाबरी विध्वंस के 24 साल बाद अयोध्या पहुंचकर सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है। अयोध्या विवाद के बाद जिस मंदिर का ताला राजीव गांधी ने खुलवाया था, उस मंदिर में लंबे समय के बाद गांधी परिवार से पहुंचने वाले राहुल गांधी को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं की जा रही हैं। ऐसा माना जा रहा है कि कुछ महीने पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को उनके आवास पर अयोध्या के महंत ज्ञानदास ने विजयी होने का आशीर्वाद दिया था। इसी वजह से यूपी में अपनी साख बचाने की जद्दोजहद में जुटे राहुल गांधी को अयोध्या की याद आई और उन्होंने हनुमान मंदिर पहुंचकर दर्शन किया। इसके साथ ही देवकाली चौराहे पर जनसभा करके कांग्रेस की सरकार को धार्मिक मुद्दों को लेकर सबसे संवेदनशील सरकार भी बता डाला।
भारतीय जनता पार्टी हर बार चुनावों में अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा भुनाने की कोशिश करती रहती थी लेकिन इस बार बीजेपी ने राम मंदिर और गाय के मुद्दे से अलग विकास के मुद्दे पर यूपी में चुनाव लडऩे का निर्णय लिया है। क्योंकि बीजेपी अच्छी तरह जानती है कि राम मंदिर को लेकर बीजेपी की तरफ से किया गया कोई भी वादा सरकार पूरा नहीं कर पाई है। वहीं बाबरी विध्वंस के समय मुलायम सिंह यादव की सरकार होने की वजह से भी अयोध्या का मामला अन्य पार्टियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। बताते चलें कि अखिलेश यादव ने अयोध्या में भव्य सभागार बनाने का निर्णय लिया और अयोध्या नगरी को धार्मिक स्थल के साथ ही पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की दिशा में भी काफी काम किया। इसलिए संतों ने प्रसन्न होकर अखिलेश यादव को विजयी होने का आशीर्वाद दिया। ऐसे में कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने भी अयोध्या मुद्दे को लेकर अपनी चाल चली है।

Pin It