अपराधियों के आगे हाईटेक पुलिस ने टेके घुटने

  • बेखौफ अपराधी संगीन वारदातों को दे रहे अंजाम
  • डीजीपी के फरमान का भी नहीं दिख रहा असर
  • यूपी में पुलिस भी खुद को नहीं मान रही सुरक्षित

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। उत्तर प्रदेश में पुलिस विभाग के मुखिया डीजीपी जावीद अहमद और उनकी पुलिसिंग की पोल अब पूरी तरह खुल चुकी है। अपराध पर अंकुश लगाने में नाकाम डीजीपी अपराधियों के सामने बेबस नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि डीजीपी पुलिस विभाग में एक के बाद एक फरमान तो जारी करते हैं। लेकिन उनके फरमानों को खुद उनके ही विभाग के अधिकारी मानने को तैयार नहीं हैं। इतना ही नहीं डीजीपी जावीद अहमद ने पद ग्रहण करने के बाद से अब तक किसी भी ऐसी वारदात का खुलासा नहीं किया, जिससे उनका सिर गर्व से ऊचां हो सके। सबसे बड़ी बात ये भी है कि डीजीपी के कार्यकाल में पुलिस कर्मी भी खुद को सुरक्षित नहीं मानते हैं। उन्हें भी आए दिन किसी न किसी वारदात का शिकार होना पड़ रहा है।
उत्तर प्रदेश में जावीद अहमद ने डीजीपी पद ग्रहण करने के साथ ही यूपी हो रहे अपराधों पर लगाम लगाने की बात प्रमुखता से कही थी। लेकिन प्रदेश में सब कुछ उसका उल्टा ही हुआ है। सूबे में न तो अपराधों पर लगाम लग सकी और न ही उनके शिकंजे में अपराधी आ सके। प्रदेश के सभी जिलों को छोडक़र अगर सिर्फ राजधानी की बात करें तो यहां भी कई ऐसी संगीन वारदातें है, जिनका खुलासा आज तक नहीं हो सका। जिसमें हसनगंज एटीएम लूट कांड व गार्ड की हत्या और हुसैनगंज एटीएम लूट का खुलासा अब तक नहीं हुआ। पुलिस ने इस दोनों वारदातों को एक ऐसी अपराध की किताब में महफूज करके रख दिया गया है, जो कभी खोली ही नहीं जा सकती है। शायद यही कारण है कि अपराधियों के हौसले दिन पर दिन और बुलंद हो गए हैं, जिन्हें किसी भी अधिकारी का डर या खौफ नहीं है। वे खुलेआम आपराधिक वारदातों को अंजाम देकर कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ा रहे हैं। यही कारण है कि उत्तर प्रदेश इस वर्ष हत्या, लूट, डकैती और रेप जैसी संगीन वारदातों में देश में पहले स्थान पर पहुंच चुका है। यहां अपराधों का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है, जिसमें आज भी कुछ घटनाएं इंसाफ की राह देख रही है।

आंकड़ों में क्राइम की प्रमुख घटनाएं

05 जनवरी गोमती नगर में आईएएस अफसर के घर डकैती, 13 जनवरी मजदूर की हत्या, 18 जनवरी बीबीए के छात्र को गोली मारी गई, 27 जनवरी चौक में छात्रा का अपरहण करने के दौरान चाकू मारकर घायल, 04 फरवरी जानकीपुरम में वृद्ध महिला की हत्या ,07 फरवरी काकोरी में खुशीराम(52) की गोली मारकर हत्या ,09 फरवरी खुशी राम (03) की गाला दबाकर हत्या ,10 फरवरी नाका में अधिवक्ता की हत्या , 10 फरवरी को जानकीपुरम निवासी छात्रा उन्नति का अपहरण, 13 फरवरी मडिय़ांव और बीकेटी में आधे शव मिले ,15 फरवरी हजरात गंज के पार्क रोड जंगल में उन्नति की रेप और हत्या कर फेंका गया शव, 16 फरवरी नाका में लूट और हत्या, 17 फरवरी पारा में धीरेन्द्र कुमार की हत्या कर फेंका गया शव, 21 फरवरी को मोहनलालगंज युवक हत्या, 23 फरवरी गौतमपल्ली में युवक की हत्या कर फेंका गया शव, 25 फरवरी आशियाना में युवती की हत्या कर फेंका गया शव , 26 फरवरी ठाकुरगंज में संजीव की हत्या 26 फरवरी अलीगंज में वृद्ध महिला की हत्या 26 फरवरी व विभूतिखंड में लूट, 27 फरवरी तालकटोरा में अनुज पाण्डेय की गोली मारकर हत्या , 28 फरवरी बंथरा में संजय की हत्या व 29 फरवरी अलीगंज में शिवम द्विवेदी को गोली मारी गयी, 5 मार्च इंदिरानगर थाना छेत्र निवासी रितेश अवस्थी (32) पुत्र आरबी अवस्थी की गोमती नगर में गोली दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या, 5 मार्च विकास नगर थाना क्षेेत्र में संजय मिश्रा और पुष्पजीत सिंह को गोलियों से भूनकर हत्या, हजरतगंज थाना क्षेेत्र स्थित डीआरएम ऑफिस में आशीष पाण्डेय की गोली मारकर हत्या कर दी गयी, 10 मार्च पारा थाना क्षेेत्र के शीतलपुरम निवासी राजेश सिंह (45) की गोली मारकर हत्या कर दी गयी, सआदतगंज थाना क्षेेत्र में राम अवतार गुप्ता की हत्या, 31 मार्च आशियाना थाना क्षेेत्र में महेश कुमार की हत्या, 12 मई आशियाना थाना क्षेेत्र में गुरुप्रीत सिंह (36) की अपहरण के बाद हत्या, बाजारखाला में चंद्र किशोर (45) की निर्मम हत्या , बाजारखाला सामाजित कार्यकर्ता कैद शकील की गोली मारकर हत्या। 21 जून आशियाना थानाक्षेेत्र में रवि कुमार की हत्या कर शव पेड़ में लटका दिया गया, जिसमें पुलिस कई घंटो तक सीमा विवाद में फंसी रही, 24 जून मॉल थाना क्षेेत्र के टिकरीकला में अनामिका को चाकुओं से गोद दिया गया, 25 जुलाई हसनगंज थानाक्षेेत्र के मोहन मेकिंग निवासी संतोष शर्मा (40) पुत्र राजकुमार शर्मा की लोहे की रॉड मारकर हत्या,26 जुलाई चौक थाना क्षेेत्र के चौपटिया निवासी सलमान (21) पुत्र इश्तियाक की गोली मारकर हत्या, 08 अगस्त गोमती नगर थाना क्षेेत्र निवासी लोहिया वाहिनी के महासचिव मनीष गिरी की गोली मारकर हत्या,12 अगस्त इंदिरानगर थाना क्षेेत्र स्थित हमराही ग्राम निवासी पंकज जयसवाल की गोली मारकर हत्या कर दी गयी, 19 अगस्त पारा में हत्याकर फेंका गया शव , गोसाईगंज सरोजनी(22) की हत्या कर शव जलाने का प्रयास, 21 अगस्त मोहनलालगंज में रमेश लोध की कुल्हाड़ी से वारकर हत्या, 21 अगस्त आशियाना में सचिन शुक्ला (25) की गोली मारकर हत्या , 21 अगस्त हसनगंज में इक्का स्टैंड के पास हत्या कर फंेका गया शव, 23 अगस्त पिपराघाट पर हत्या कर फंेका गया सलमान का शव, 03 सितंबर काकोरी में शानू (24) की हत्या, 10 सितम्बर अलीगंज में विमलेश (29) हत्या कर फंेका गया शव, 12 सितंबर मलिहाबाद में अनिल कुमार (35) का अपहरण के बाद हुई हत्या, 14 सितंबर विकास नगर में कृष्णा (9) की हत्या, 18 सितम्बर गोमती नगर विश्वासखण्ड में सतेंद्र(45) की चाकू से गोदकर निर्मम हत्या कर दी गयी, 21 सितंबर इटौंजा में शिवकांत (40) की हत्या कर तालाब में फेंका गया शव, पीजीआई में महिला की गला दबाकर हत्या, 04 सितंबर जानकीपुरम में वृद्ध की पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी। ये महज कुछ ही ऐसी घटनाएं हैं, जिनसे ही अनुमान लगाया जा सकता है कि राजधानी की पुलिस कितनी सतर्क है।

Pin It