अक्टूबर में निगम कर्मचारियों पर मंडरा रहा वेतन का संकट

  • वेतन के लिए चाहिए 21 करोड़, अभी तक हुई मात्र 2.60 करोड़ की वसूली

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नगर निगम के लिए सितंबर माह थोड़ा टेंशन देने वाला हो सकता है। नगर निगम प्रशासन अभी तक वेतन बांटने के लिए पैसा नहीं जुटा पाया है। तेरह दिन में वेतन बांटने के लिए नगर निगम को करोड़ों रुपये जुटाने हैं। 16 दिन में सिर्फ 2.60 करोड़ रुपये की वसूली हो पाई है। कम वसूली पर नगर आयुक्त उदयराज सिंह ने नाराजगी व्यक्त की है।
कर्मचारियों की तनख्वाह के लिए नगर निगम को 21 करोड़ रुपये की जरूरत हर माह पड़ती है। पेंशन के लिए करीब साढ़े पांच करोड़ रुपये अलग से जुटाने पड़ते हैं। वहीं दूसरे मदों के लिए भी नगर निगम को छह से आठ करोड़ रुपये जुटाने पड़ते हैं। अभी तक नगर निगम ने महज 2.60 करोड़ रुपये ही जुटाए हैं। वर्तमान में नगर निगम अभी तक 2500 से ज्यादा कर्मचारियों को पेंशन भी नहीं बांट पाया है। ऐसे में नगर निगम प्रशासन पर दबाव बढ़ गया है कि वह टैक्स वसूली बढ़ाए।

कहीं काली न हो जाए दीपावली

नगर निगम कर्मचारियों को कम वसूली के चलते डर भी सताने लगा है कि कहीं अक्टूबर में वेतन के लाले न पड़ जाए। नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष आनंद वर्मा ने बताया कि सितम्बर माह में अभी तक लक्ष्य से बहुत कम वसूली से सभी कर्मचारियों पर वेतन का संकट मंडराने लगा है। उन्होंने बताया कि एक तरफ अक्टूबर माह में नवरात्र, करवाचौथ व दीपावली जैसे बड़े पर्व पड़ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर हम लोगों के वेतन पर संकट के बादल अभी से छाने लगे हैं।

Pin It