JID SACH KI: EDITORIAL

जिद… सच की- महिला अपराधों का बढ़ता ग्राफ और पुलिस तंत्...

सवाल यह है कि महिला अपराधों पर नियंत्रण क्यों नहीं लग पा रहा है? क्या पुलिस तंत्र ऐसी जघन्य घटनाओं को रोकने में नाकाम साबित हो रहा है? क्या पुलिस तंत्र में व्याप्त भ्रष्टïाचार के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं? क्या कड़े कानूनों के बावजूद महिला अपराधों पर लगाम लगाना मुश्किल हो गया है?…